fbpx

Few things about COVID-19 you should know!

“ये इश्क़ नहीं आसां इतना
तो समझ लीजे
इक आग का दरिया है
और डूब के जाना है”

येह गीत अक्सर आपने सुना होगा , शायरी के तौर पर या किसी के मुंह जबानी, पर बोलते है ना वक्त आने पर हर एक चीज का हर एक गीत का अलग अलग पेहलू नये रूप से हमारे पास आ जाता है, या फिर हमें कुछ सीखा जाता है.. कई बार इश्क को लोग बर्बादी या आमतौर पर समस्या के विशेषणों के हारोंसे उसका सत्कार करते है पर यहा शत्रु ही ऐसा है कि किसी विशेषण उपमा या अलंकारिकता की आवश्यकता ही नहीं…

कोरोना यहां बर्बादी है इसे मात देना आसान नहीं है.. बस ‘आग का दरिया’ है ‘घर बैठना’ और इसमें ही डूब के जाना है… आजकल की रोज मरहा की जिंदगी में हमने थामना सीखा ही नहीं.. .. पर ऐसे अचानक रोज घर बैठना वो भी १-२ महीने… यह आग के दरिया से तो कम नहीं…आप के जेहन में आया होगा तो करे क्या? कैसे बचे इससे .. तो कैसे बचे ये हम बता देंगे.. पर चाणक्य नीति केहती है कि “शत्रु को तोड़ना हो तो उसके जड़ को समझना होगा ” तो आइए इसके शुरुआती पहलू से इसका अभ्यास करें फिर इसपे विवरण करके कैसे बचना है यह हम बताएंगे… याद रखना यहां कोरॉना का दरिया है घर पर ही बैठना है.

🔴कोरोना का उगम :-

दिसंबर २०१९ में मध्य चीन के वुहान शहर के मार्केट में इस नए प्रकार के कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ , वहा अचानक लोग बिना किसी कारण के निमोनिया के शिकार होने लगे तब समझ आया कि इनमें से ज्यादा तर लोग वुहान मार्केट के आस पास से है, अधिकतर मरीज वुहान फूड मार्केट में मछलियां और अन्य पशुओंका मांस बेचते है वैज्ञानिकों ने इस नए नस्ल के वायरस को प्रारंभिक 2019-nCoV नाम दिया. इस नए वायरस में ७०% जीनोम सार्स कोरोना वायरस की तरह ही थे . पीसीआर परीक्षण से वैज्ञानिक इस वायरस की जांच कर रहे थे.. तो बाद में उन्हें पता चला कि कुछ मरिजोंका वुहान मार्केट से प्रत्यक्ष संबंध नहीं है तब उन्हें इस इंसानों द्वारा फैलने वाले रोग का पता चला..चीन के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि यह चमगादड़ के मांस से संक्रमित हुआ है,क्योंकि इस वायरस का जीनोम और चमगादड़ के वायरस के जीनोम हालांकि समान है.विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंगवार को कोरोना वायरस की महामारी को नया नाम कोविड-19 (COVID-19)दिया.

🔴वैश्विक महामारी –

20 जनवरी 2020 को चीनी प्रीमियर ली केकियांग ने नावेल कोरोनावायरस के कारण फैलने वाली निमोनिया महामारी को रोकने और नियंत्रित करने के लिए निर्णायक और प्रभावी प्रयास करने का आग्रह किया। 14 मार्च 2020 तक दुनिया में इससे 5,800 मौतें हो चुकी हैं।इस वायरस के पूरे चीन में, और मानव-से-मानव संचरण के प्रमाण हैं। 9 फरवरी तक व्यापक परीक्षण में 88,000 से अधिक पुष्ट मामलों का खुलासा हुआ था, जिनमें से कुछ स्वास्थ्यकर्मी भी हैं। 20 मार्च 2020 तक थाईलैंड, दक्षिण कोरिया, जापान, ताइवान, मकाउ, हांगकोंग, संयुक्त राष्ट्र अमेरिका, सिंगापुर, वियतनाम, भारत, ईरान, इराक, इटली, कतार, दुबई, कुवैत और अन्य 160 देशों में पुष्टि के मामले सामने आए हैं।

🔵मृत्य दर-

१)अमेरिका
पुष्टि की केसेस=१.१३मिलियन
,मृत्यु=६५,६०५

२)इटली –
पुष्टि की केसेस =२०७ हजार , मृत्यु=२८,२३६

३)स्पेन
पुष्टि कि केसेस= २१७ हजार ,
मृत्यु =२५,१००

४)यूनाइटेड किंगडम पुष्टि की केसेस= १७७ हजार , मृत्यु=२७,५१०

५) जर्मनी
पुष्टि की केसेस=१६४ हजार,
मृत्यू= ६,७३५

६)फ्रान्स
पुष्टी की केसेस= १,३०,८५
मृत्यू= २४,५९४

७)रशिया
पुष्टी की केसेस= १,२४,०५४
मृत्यू= १,२२२

और भारत की स्थिति
पुष्टि कि केसेस= ३७,३३६
मृत्यु =१,२१८

🔴 कोरोना के लक्षण –
लक्षण दिखने से पहले, व्यक्ति एक से चौदह दिनों तक वायरस की वजह से बीमार रह सकता है. बुखार, थकान, और सूखी खांसी कोरोना वायरस की बीमारी (COVID-19) के सबसे आम लक्षण हैं. ज़्यादातर लोग (करीब 80%), बिना किसी खास इलाज के ही ठीक हो जाते हैं.
बहुत ही कम मामलों में, यह बीमारी गंभीर और जानलेवा भी हो सकती है. बुज़ुर्ग और ऐसे लोग जिन्हें दूसरी स्वास्थ्य समस्याएं (जैसे कि अस्थमा, डायबिटीज़ या दिल की बीमारी) है उनके लिए यह वायरस ज़्यादा खतरनाक साबित हो सकता है….

🔵लोगों को ये अनुभव हो सकते हैं:
१)खांसी
२)बुखार
३)थकान
४)सांस लेने में तकलीफ़ (ज़्यादा गंभीर मामलों में)
upload images
इस वायरस के कारण शरीर का तापमान 37.8 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ सकता है जिस कारण व्यक्ति का शरीर गर्म हो सकता है और उसे ठंडी महसूस हो सकती है. व्यक्ति को शरीर में कंपकंपी भी महसूस हो सकती है.
इसके कारण गले में खराश, सिरदर्द और डाएरिया भी हो सकता है. हाल में आए एक ताज़ा शोध के अनुसार कुछ खाने पर

स्वाद महसूस ना होना गंध ना आना
भी कोरोना वायरस का लक्षण हो सकता है.
माना जा रहा है कोरोना वायरस के लक्षण दिखना शुरु होने में औसतन पांच दिन का वक्त लग सकता है लेकिन कुछ लोगों में ये वक्त कम भी हो सकता है.
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार वायरस के शरीर में पहुंचने और लक्षण दिखने के बीच 14 दिनों तक का समय हो सकता है.

🔵 कोरोना से बचाव –

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं. इनके मुताबिक, हाथों को साबुन से धोना चाहिए. अल्‍कोहल आधारित हैंड रब का इस्‍तेमाल भी किया जा सकता है. खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रूमाल या टिश्‍यू पेपर से ढककर रखें. जिन व्‍यक्तियों में कोल्‍ड और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें.

१) पहले हमें ये ध्यान रखना होगा कि हमारी आंतरिक ऊर्जा याने रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ाए.

२) बार बार अपने हाथ साबुन या एल्कोहोल युक्त सैनिटाइजर से धोएं .

३)घर पर ही रहे ..लोगों से दूरी बनाए रखे.

४) खांसते या छींकते वक्त मुंह ढकले.

५)अपने हाथ से अपने चेहरे को बार बार ना छुए.

६)मास्क या फिर कपड़े से मुंह ढकलें. ७)इस्तमाल किए हुए मास्क अथवा टिशू फेक दे.

 

🔵 वयोमान के अनुसार मृत्युदर:-

१)9 साल तक के बच्चों में- 0 प्रतिशत
२)10-39 वर्ष तक के लोगों में 0.2 प्रतिशत
३)40-49 वर्ष तक के लोगों में 0.4 प्रतिशत
४)50-59 वर्ष तक के लोगों में 1.3 प्रतिशत
५)60-69 वर्ष तक के लोगों में 3.6 प्रतिशत
६)60-69 वर्ष तक के लोगों में 3.6 प्रतिशत
७)70-79 वर्ष तक के लोगों में 8 प्रतिशत
८)80 से ज्यादा वर्ष के लोगों में 14.8 प्रतिशत

🔴 लॉकडाऊन समय का सदुपयोग

१) अपने पसंदिता कला या शौक पे और काम किजीये

२) कुछ तो नया सिखिये.

३) आत्मिक सुख एवं ध्यान धारणा करके मन पवित्र कीजिये.

४) किताबे पढीए ज्ञान अर्जित किजीए.

५)स्वास्थ्य संबंध कसरत योगा जैसे क्रियाओं पर भर दिजीए.

६) ज्ञानवर्धक सिनेमा तथा विडीओज देखिये.

७) हमारी संस्कृती विषयक हमारी धारोहर हमारी पेहचान विषयक जो भी लगे वी किजिये.

८) एक महान चरित्र पर सखोल अभ्यास किजिये

 

Blog Written by

Abhishek R. BomnalikarClick here to Visit Instagram Profile

Date: 2 May 2020

Send us more interesting blog about related fashion or any hot topic we will post it on our blog page.

Thanks for Reading!

Stay Home! Stay Safe!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X